Type Here to Get Search Results !

Khooni Bawaseer ka gharelu ilaj- बवासीर घरेलू उपचार

0

बवासीर का रामबाण आयुर्वेदिक इलाज- bavasir ke gharelu upay

बवासीर अर्श यह रोग मुख्यतः कब्ज के कारण होता है। जिन लोगो को कब्ज की शिकायत लंबे समय तक रहती है उनको मुख्यतः यह रोग होता है। अत्यधिक बैठं रहने से भी बवासीर अर्श का रोग हो जाता है। बवासीर दो प्रकार के होते है 1- खूनी बवासीर और 2- बादी बवासीर। 

इस रोग में मल बहुत ही कठिनाई से निकलने लगता है और मल के साथ साथ खून भी निकलना शुरू हो जाता है, इसलिए यह अत्यधिक तीखा, चिकना और मसालेदार भोजन करने के कारण होता है। तथा बवासीर वाले रोगी को खाने में हमेशा हरी सब्जी व सलाद ही अधिक से अधिक देना चाहेए तथा रोगी को तला भूना मसालेदार खट्टा इस तरह के भोजन का सेवन नही करने देना चाहिए। 

बवासीर के घरेलू उपचार निम्नलिखित नीचे बताए जा रहे है, यदि आप इन उपचारो का प्रयोग करते है तो आपकी बवासीर की समस्या हमेशा के लिए दूर हो जाएगी।

 

बवासीर का रामबाण आयुर्वेदिक इलाज- bavasir ke gharelu upay
bavasir ke gharelu upay


Khooni Bawaseer ka gharelu ilaj- बवासीर की दवा

  1. आँवले का चूर्ण एक तोला सुबह शाम शहद के साथ लेने पर बवासीर में लाभ मिलता है।
  2. गवार की फल्ली के पत्ते तथा काली मिर्च के दाने बराबर मात्रा में मिलाकर दोनों को पीस लें तथा पानी में मिलाकर पिएं बवासीर कि परेशानी से लाभ होगा।
  3. आँवले के चूर्ण को दही के साथ खाने से आराम मिलेगा।
  4. 10 ग्राम त्रिफला चूर्ण शहद के साथ चाटने से बवासीर से राहत मिलेगी।
  5. मूली के रस को काला नमक डालकर पीने से बवासीर में लाभ होगा।
  6. प्रतिदिन सुबह खाली पेट तीन चार पके हुए बीच वाले अमरूद खाने से बवासीर में काफी लाभ होता है।
  7. एक चम्मच मैथी के बीजों को पीसकर 300 मीली, बकरी के दूध में औटायें, इसमें एक चम्मच पिसी हल्दी तथा एक चुटकी काला नमक मिलाकर और दूध ठंडा होने के बाद सेवन करे बवासीर कि बीमारी से अवश्य लाभ होगा।
  8. छोटी पिपली का चूर्ण शहद के साथ चाटने पर बीमारी में आराम मिलता है।
  9. गाजर और पालक का रस समान मात्रा में मिलाए और इसका सेवन कर इससे बवासीर जड़ से खत्म हो जएगा।
  10. काले तिल और ताजे मक्खन को समान मात्रा में मिलाकर खाने से बवासीर नष्ट हो जाएगा।
  11. बड़ी इलायची को जलाकर उसका चूर्ण बनाओ और फिर प्रतिदिन सुबह दोपहर शाम ताजे पानी के साथ सेवन करे।
  12. करेले का रस और मिश्री मिलाकर लेने से बवासीर में लाभ होगा।
  13. सुबह शाम बकरी के दूध का सेवन करने से बवासीर के रोग से लाभ होगा।
  14. हरड़ का पाउडर गुड़ के साथ मिलाकर खाने से बवासीर की समस्या से लाभ मिलेगा।
  15. प्याज के रस में घी तथा मिश्री को मिलाकर लेने से बवासीर की समस्या से लाभ होगा।
  16. आंवले का चूर्ण और गुड़ मट्टे के साथ मिलाकर पीने पीने से बवासीर की समस्या से लाभ होगा।
  17. उबली हुई सब्जियो और सादा खाना इस बीमारी को जड़ से खत्म कर सकता है, इसके साथ ही साथ सैंधा नमक मिलाकर मट्टे का सेवन करने से भी लाभ होगा और सलाद में मूली गाजर का सेवन करना भी उचित होता है, तथा भोजन को हमेशा ही चबा चबाकर ही खाएँ।
  18. एक चम्मच करेले के रस में थोड़ी सी मिश्री मिलाकर दिन में दो दिन बार पीने से बवासीर में लाभी होगा।
  19. इमली के बीजों को भूनकर उनका छिलका हटा लो और उनका चूर्ण बनाके सुबह दही के साथ सेवन करो।
  20. नीम और कनेर के पत्तों का लेप बवासीर के मस्सों पर लगाए।
  21. तंबाकु के पत्तों की महीन चटनी बनाकर मस्सो पर लेप लगाए।
  22. काशीफल का रस सभी तरह के बवासीर के लिए लाभकारी है।
  23. नीम के तेल भी मस्सों पर लगाने से आराम मिलता है।
  24. हल्दी और कड़वी तोरई को पीसकर उसका लेप मसो पर लगाने से राहत मिलेगी।
  25. ताजे मक्खन में थोड़ी सी फिटकरी तथा पिसी हुई हरड़ मिलाकर मसों पर लेप लगाने से आराम मिलेगा।
  26. एक चम्मच अनार के छिलकों का चूर्ण दिन में तीन बार ताजे पानी के साथ सेवन करे, इसके अलावा अनार के पेड़ की छाल का काढ़ा बनाए और उसमें एक चम्मच सौंठ और मिश्री मिलाकर उसे पीए इससे बवासीर कि समस्या से लाभ मिलेगा।


Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Top Post Ad

Below Post Ad